*

"परब्रह्म परमेश्वर" भगवान श्रीकृष्ण की किसी भी मामले मेँ बराबरी नहीँ कर सकते शिवशंकर महादेव, शिव देवता हैँ परमेश्वर नहीँ... जानिये "शिवपुराण" का तथ्य ?





सर्वशक्तिमान परमेश्वर नहीँ हैँ शिवशंकर...





सदियो से हिन्दु धर्मावलंबी लोग ब्रम्हा विष्णु महेश का पुजन करते आये है...

परंन्तु परब्रह्म परमेश्वर श्रीकृष्ण महाराज को इन तिनो देवोँ मे रखना उचित प्रतित नहीँ होता...



(चेतावनी- हमारा उद्देश देवोँकेँ दोषोँ को दिखाना नहीँ हैँ बल्की सत्य को अवगत करना हैँ...)

{हो सके तो आप और हरीहरब्रम्हाजी हमेँ माफ करे... }



कौन हैँ सर्वशक्तिमान



आप सब तो जानते हीँ हैँ की शिवजी ने क्रोध मे एक निर्दोश बालक (गणेश) का शिरछेद कर डाला...

शिर ऐसी जगह गया की उसे लाना असभंव हो गया था,

तथा कामदेव शिवजी द्वारा कोध्राग्नी मेँ जल जाने के कारण उनका शरीर वापस तयार करने मेँ भी शिव असमर्थ थे,

तो शिवजी किस प्रकार सर्वशक्तिमान परमेश्वर हो सकते हैँ



तथा भगवान श्रीकृष्ण ने सांदिपनी गुरु का पुत्र जो समुद्र मे डुब कर मर गया था, उसको यमलोक से सहशरीर वापस ले आये थे,


[श्रीमद्भगवत कथा महापुराण - दशम स्कन्द पुर्वार्ध अध्याय 45 श्लोक 35 से 50]


तो आप ही विचार किजिये सर्वशक्तिमान परमेश्वर कौन हैँ

श्रीकृष्ण सर्वशक्तीमान परमेशर के अवतार हैँ,



गतिर्भर्ता प्रभुः साक्षी निवासः शरणं सुहृत्‌ । प्रभवः प्रलयः स्थानं निधानं बीजमव्ययम्‌॥

गिता अध्याय 9, श्लोक 18. Geeta Link


अर्थात हे अर्जुन, होने योग्य परम धाम, भरण-पोषण करने वाला, सबका स्वामी, शुभाशुभ का देखने वाला, सबका वासस्थान, शरण लेने योग्य, प्रत्युपकार न चाहकर हित करने वाला, सबकी उत्पत्ति-प्रलय का हेतु, स्थिति का आधार, निधान (प्रलयकाल में संपूर्ण भूत सूक्ष्म रूप से जिसमें लय होते हैं उसका नाम 'निधान' है) और अविनाशी कारण भी मैं ही हूँ॥


एक तरफ भगवान श्रीकृष्णजी का कहना की मै पोषन कर्ता, उत्पादक, संहारक, हितचिंतक, रक्षक, साक्षी, आश्रयस्थान, निधान, अविनाशी, मुलकारण, मोक्षदाता परमेश्वर हुँ।

बल्की शिवजी को तो हाथी के शिर से काम चलाते हुये देखा जा सकता है ।

हमनेँ आगे और प्रमाणो मेँ खुलासा किया हैँ...

अब आपके मन मेँ ये सवाल बार बार उठ रहा होगा की, की भगवान ने गिता के दसवे अध्याय मेँ ये भला ये क्यु कहा की

"अदिती के बाराह पुत्रो मेँ विष्णु मै हुं" और "शस्त्रधारीओ मेँ राम मैँ हुं" तथा "रुद्रो मेँ शंकर मैँ हुं"... जानने के लिये यहां किल्क करे।







अगला प्रमाण अगले पेज पर...अगला पेज



Back Page



पेज :- [1] 2 3 4 5